वर्ण किसे कहते हैं वर्ण की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण सम्पूर्ण जानकारी!

वर्ण किसे कहते हैं (Varn kise kahte hain)

अगर हम बात करते हैं वर्ण की तो वर्ण हिंदी व्याकरण में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं तो इसलिए आज हम वर्ण के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं कि “वर्ण किसे कहते हैं वर्ण की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण सम्पूर्ण जानकारी!”

ध्वनि संकेतों को (वायु) ध्वनि कहा जाता है। जहाँ लिखित ध्वनि संकेतों को देवनागरी लिपि के अनुसार वर्ण कहा जाता है, वहीं देवनागरी लिपि में प्रत्येक ध्वनि के लिए एक निश्चित संकेत (वर्ण) होता है।

वर्ण किसे कहते हैं

Read Also –How to earn money from Instagram? Full Detail

वर्ण किसे कहते हैं – भाषा की सबसे छोटी इकाई एक वर्ण या ध्वनि है, जबकि भाषा की सबसे छोटी सार्थक इकाई को वाक्य माना जाता है। ‘भाषा’ शब्द की उत्पत्ति ‘संस्कृत’ शब्द से हुई है।

वर्ण किसे कहते हैं (Varn kise kahte hain)
वर्ण किसे कहते हैं वर्ण की परिभाषा और प्रकार

हिंदी भाषा की उत्पत्ति निम्नलिखित तरीके से हुई।

संस्कृति – पाली – प्राकृत – अपभ्रंश – अपहटटय – आधुनिक – हिंदी

हिंदी में उच्चारण के संदर्भ में वर्णो की संख्या 45 (35 व्यंजन + 10 स्वर) है जबकि लेखन की दृष्टि से कुल वर्ण 52 (39 व्यंजन + 13 स्वर) हैं।

हिंदी भाषा में प्रयुक्त सबसे छोटी ध्वनि को वर्ण कहते हैं। यह एक मूल ध्वनि है, इसमें और अधिक खंड नहीं हो सकते।

जैसे : अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, क्, ख् आदि।

वर्णमाला: (वर्ण किसे कहते हैं)

वर्णों के समूह को वर्णमाला कहा जाता है।

दूसरे शब्दों में, हम यह भी कह सकते हैं कि किसी भाषा के सभी वर्णों के समूह को वर्णमाला कहा जाता है।

प्रत्येक भाषा की अपनी वर्णमाला होती है।

हिंदी- अ, आ, क, ख, ग…..

अंग्रेजी- A, B, C, D, E….

वर्णों के प्रकार

वर्णों के समुदाय को वर्णमाला हिंदी कहा जाता है वर्णमाला में 44 वर्ण हैं। हिंदी वर्णमाला में उच्चारण और प्रयोग के आधार पर दो प्रकार के वर्ण होते हैं।

हिंदी भाषा में (2) प्रकार के वर्ण हैं।

  1. स्वर (vowel)
  2. व्यंजन (Consonant)

यह भी पढ़ें-

Online earning के 11 सबसे बेहतरीन तरीके 2020- बिना कोई निवेश के

Instant Loan apps- mobile से तुरंत लोन कैसे ले 2020

Affiliate Marketing क्या है और इससे पैसे कैसे कमाए?

1. स्वर (Vowel):

वर्ण जो स्वतंत्र रूप से उच्चारित किया जाता है। अर्थात्, किसी अन्य वर्ण को उनके उच्चारण में नहीं लिया जाता है, कुल संख्या 13 है, जबकि संख्या को मुख्य रूप से 11 माना जाता है। उन्हें स्वर कहा जाता है। यह संख्या में ग्यारह है।

जिन वर्णों को उच्चारण में किसी अन्य वर्ण की सहायता की आवश्यकता नहीं होती, उन्हें स्वर कहते हैं। इसके उच्चारण में कंठ, तालु का उपयोग होता है, जीभ का नहीं, होठ का नहीं।

हिंदी वर्णमाला में 16 स्वर हैं।

जैसे: अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ, अं, अः, ऋ, ॠ, ऌ, ॡ।

स्वर के दो भेद हैं।

मूल स्वर: अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ए, ओ

मूल स्वर के तीन भेद हैं।

यह भी पढ़ें-

MPL Game क्या है, MPL 2020 कैसे Download करे और पैसे कमाए

GDP क्या है? GDP का Full Form क्या है? सम्पूर्ण जानकारी !

Digital Marketing क्या है और कैसे करें ? सम्पूर्ण जानकारी

(1) ह्रस्व स्वर:

जिन स्वरों के उच्चारण में कम समय लगता है, उन्हें स्वर स्वर कहा जाता है।

ह्स्व स्वर चार होते है -अ आ उ ऋ।

‘‘ऋ’ की मात्रा (ृ) के रूप में लागू होती है और उच्चारण ‘‘रि’’ की तरह होता है।

(2) दीर्घ स्वर: जिन स्वरों का उच्चारण स्वर के समय से दोगुना होता है, उन्हें दीर्घ स्वर कहते हैं।

सरल शब्दों में- स्वरों को उच्चारण करने में अधिक समय लगता है जिसे दीर्घ स्वर कहते हैं।

दीर्घ स्वर सात है। : आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ।

दीर्घ स्वरें दो शब्दों के योग से बनती हैं।

जैसे: आ = (अ+अ) , ई = (इ+इ)

(3) प्लुत स्वर: जिन स्वरों के उच्चारण में दीर्घ स्वर से अधिक समय लगता है, यानी, तीन मात्राएँ , प्लुत स्वर कहलाते हैं।

सरल शब्दों में, “उच्चारण में तीन बार लगने वाले स्वर को “प्लुत” कहा जाता है।” “

संयुक्त स्वर: ऐ (अ +ए) और औ (अ +ओ)

स्वरों के प्रकार

उच्चारण समय की दृष्टि से स्वर के (3) तीन भेद किए गए हैं।

1. ह्रस्व स्वर:

जिन स्वरों के उच्चारण में कम से कम समय लगता है, उन्हें ह्रस्व स्वर कहते हैं। उन्हें मूल स्वर भी कहा जाता है। ये स्वरें 4 होते है।

जैसे – अ आ उ ऋ

2. दीर्घ स्वर:

जिन स्वरों के उच्चारण के समय का दोगुना समय लगता है, उन्हें दीर्घ स्वर कहते हैं। यह हिंदी में 7 है।

जैसे: आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ

विशेष: दीर्घ स्वरों को ह्रस्व स्वर के रूप में नहीं माना जाना चाहिए। उच्चारण में लगने वाले समय शब्द को आधार के रूप में इस्तेमाल किया गया है।

3. प्लुत स्वर:

जो स्वर दीर्घ स्वरों से अधिक समय लगता है उन्हें प्लुत स्वर कहते हैं। ये अक्सर दूर से बुलाने के लिए उपयोग किए जाते हैं।

इसका चिन्ह (ऽ) है। अक्सर पुकारते समय इसका उपयोग किया जाता है। जैसे- सुनोऽऽ, राऽऽम, ओऽऽम्।

हिंदी आमतौर पर प्लुत का उपयोग नहीं करते हैं। वैदिक भाषा में, प्लुत स्वर का प्रयोग अधिक हुआ है। इसे ‘त्रिमात्रिक’ स्वर भी कहा जाता है।

अं, अः अयोगवाह कहा जाता है। वे वर्णमाला में स्वरों के बाद और व्यंजनों से पहले बदले जाते हैं। अं को अनुस्वार और अः को विसर्ग कहते है।

अनुनासिक, निरनुनासिक, अनुस्वार और विसर्ग

अनुनासिक, निरनुनासिक, अनुस्वार और विसर्ग, हिंदी में, स्वरों के उच्चारण अनुनासिक और निरनुनासिक होता है। अनुस्वार और विसर्ग व्यंजन हैं, जो स्वर के बाद स्वर से स्वतंत्र होते हैं। उनके संकेत इस प्रकार हैं।

अनुनासिक (ँ) : इस तरह के स्वर नाक और मुंह से उच्चारित होते हैं और उच्चारण में कम होते हैं।

जैसे – गाँव, दाँत, आँगन, साँचे इत्यादि।

अनुस्वार (अं): यह स्वर के बाद एक व्यंजन है, जिसकी ध्वनि नाक से निकलती है।

जैसे अंगूर, अंगद, कंकण।

निरनुनासिक: केवल मुंह से बोले जाने वाले सस्वर वर्णों को निरनुनासिक कहा जाता है।

जैसे- इधर, उधर, आप इत्यादि।

विसर्ग (अः) : अनुस्वार की तरह, विसर्ग भी स्वर के बाद आता है, यह एक व्यंजन है और ‘ह’ की तरह उच्चारित होता है। इसका संस्कृत में बहुत व्यवहार है। अब हिंदी में इसका अभाव हो रहा है, लेकिन यह अभी भी तत्सम शब्दों के उपयोग में है।

जैसे:- मनःकामना, पयःपान, अतः, स्वतः, दुःख इत्यादि।

2. व्यंजन:

जिन वर्णों के पूर्ण उच्चारण के लिए स्वरों की सहायता ली जाती है उन्हें उन्हें व्यंजन कहा जाता है।

यानी स्वर की मदद के बिना व्यंजन नहीं बोला जा सकता। यह संख्या में 33 है।

व्यंजन के प्रकार

व्यंजन के (3) तीन भेद हैं

(1) स्पर्श व्यंजन

स्पर्श का अर्थ है स्पर्श करना। व्यंजनों का उच्चारण करते समय, जीभ मुंह का एक हिस्सा स्पर्श होती है

जैसे: – कण्ठ, तालु, मूर्ति, दाँत, आदि।

उन्हें (5) पाँच श्रेणियों में रखा गया है और प्रत्येक श्रेणी में पाँच व्यंजन हैं। प्रत्येक वर्ग का नाम प्रथम श्रेणी के अनुसार रखा गया है।

जैसे :

कवर्गक् ख् ग् घ् ड़्
चवर्गच् छ् ज् झ् ञ्
टवर्गट् ठ् ड् ढ् ण् (ड़् ढ्)
तवर्गत् थ् द् ध् न्
पवर्गप् फ् ब् भ् म्

यह भी पढ़ें-

SSC क्या है और SSC का Full form क्या है?सम्पूर्ण जानकारी !

Online earning के 11 सबसे बेहतरीन तरीके 2020- बिना कोई निवेश के

Jio Caller Tune कैसे लगायें 3 तरीक़े सम्पूर्ण जानकारी!

(2) अंतःस्थ व्यंजन

“अन्तः” में, इसका अर्थ है ‘आंतरिक’। उच्चारण के समय जो व्यंजन मुंह के भीतर रहते हैं, उन्हें अंतःस्थ व्यंजन कहा जाता है। ये निम्नलिखित 4 हैं: य् , र्, ल्, व्

(3) ऊष्म व्यंजन

ऊष्मा का अर्थ है गर्म। निम्नलिखित चार वे हैं जो हवा मुंह के विभिन्न हिस्सों से टकराये और उच्चारण के समय सांस में गर्मी पैदा करती है।

ये निम्नलिखित 4 हैं: श्, ष्, स्, ह्

कंठ्य(गले से)क, ख, ग, घ, ङ
तालव्य(कठोर तालु से)च, छ, ज, झ, ञ, य, श
मूर्धन्य(कठोर तालु के अगले भाग से)ट, ठ, ड, ढ, ण, ड़, ढ़, ष
दंत्य(दाँतों से)त, थ, द, ध, न
वर्त्सय(दाँतों के मूल से)स, ज, र, ल
ओष्ठय(दोनों होंठों से)प, फ, ब, भ, म
दंतौष्ठय(निचले होंठ व ऊपरी दाँतों से)व, फ
स्वर(यंत्र से)

जहाँ भी दो या अधिक व्यंजन पाए जाते हैं, उन्हें संयुक्त व्यंजन कहा जाता है, लेकिन इन तीनों को एक संयोजन के बाद देवनागरी लिपि में परिवर्तन के कारण जोड़ा गया है।

यह दो व्यंजनों से बना है।

क्ष क् + ष (अक्षर)

त्र त् + र (नक्षत्र)

ज्ञ ज् + ञ (ज्ञान)

कुछ लोग क्ष्, त्र् और ज्ञ् को हिंदी वर्णमाला में भी गिनते हैं, लेकिन ये संयुक्त व्यंजन हैं। इसलिए, उन्हें वर्णमाला में गिनना उचित नहीं लगता।

संस्कृत में, स्वरों को “अच्‍” और व्यंजनों को “हल्‍ “ कहा जाता है।

व्यंजनों में दो वर्ण अतिरिक्त हैं

  1. अनुस्वार
  2. विसर्ग

अनुस्वार: इसका उपयोग पांचवें वर्ण के स्थान पर किया जाता है। इसका एक चिन्ह (ं) है।

जैसे : सम्भव=संभव, सञ्जय=संजय

विसर्ग: इसे ह् के रूप में उच्चारित किया जाता है। इसका चिह्न (:) है।

जैसे:- अतः, प्रातः

(4) संयुक्त व्यंजन

दो या दो से अधिक व्यंजनों के मेल से बनने वाले व्यंजन को संयुक्त व्यंजन कहा जाता है।

संयुक्त व्यंजन चार हैं।

क्षक् + ष + अ(रक्षक, भक्षक, क्षोभ, क्षय)
त्रत् + र् + अ(पत्रिका, त्राण, सर्वत्र, त्रिकोण)
ज्ञज् + ञ + अ(सर्वज्ञ, ज्ञाता, विज्ञान, विज्ञापन)
श्रश् + र् + अ(श्रीमती, श्रम, परिश्रम, श्रवण)

* संयुक्त व्यंजनों में, पहला व्यंजन बिना स्वर के है और दूसरा स्वर है।

(5) द्वित्व व्यंजन

जब कोई व्यंजन अपने सजातीय व्यंजनों से मेल खाता है, तो इसे द्वित्व व्यंजन व्यंजन कहा जाता है।

जैसे:

  • क् + क = पक्का
  • च् + च = कच्चा
  • म् + म = चम्मच
  • त् + त = पत्ता

* यहां तक कि दो व्यंजनों में, पहला व्यंजन स्वर के बिना है और दूसरा व्यंजन स्वर के साथ है।

(6) संयुक्ताक्षर

जब एक स्वर रहित व्यंजन अन्य स्वरों के साथ व्यंजन को पूरा करता है, तो इसे संयुक्ताक्षर कहा जाता है।

जैसे:

  • स् + थ = स्थ = स्थान
  • स् + व = स्व = स्वाद

* दो अलग-अलग व्यंजन हैं जो एक साथ कोई नया व्यंजन नहीं बनाते हैं।

इस Post में, हमने आपको “वर्ण किसे कहते हैं वर्ण की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण सम्पूर्ण जानकारी!” के बारे में पूरी जानकारी दी है। आपको यह जानकारी कैसी लगी कमेंट कर के जरूर बताइये और अपने सुझाव को हमारे साथ शेयर करें ।

यदि आपको यह Post पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये। इसी तरह की सही और संपूर्ण जानकारी के लिए आप हमारेFacebook Pageको लाइक करें, लाइक करने के लिए यहाँक्लिक करें|

8 thoughts on “वर्ण किसे कहते हैं वर्ण की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण सम्पूर्ण जानकारी!”

  1. आपने इस पोस्ट में वर्ण के बारे में बहुत अच्छी जानकारी दी है इसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Content Protection by DMCA.com
Scroll to Top