Home Biography स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekanand) का जीवन परिचय - Biography

स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekanand) का जीवन परिचय – Biography

स्वामी विवेकानंद जीवनी (जीवनी), प्रेरक प्रसाद, अनमोल विचार हिंदी में (Swami Vivekananda’s Biography and inspirational story in Hindi)

स्वामी विवेकानंद भारतीय वैदिक सनातन संस्कृति के जीवंत अवतार थे। जिन्होंने पूरे विश्व को भारत की संस्कृति, धर्म और नैतिक मूल्यों के मूल से परिचित कराया। स्वामी जी वेद, साहित्य और इतिहास की विधा में पारंगत थे। 

पिछले लेख में, हमने महत्वपूर्ण विषय  Dr. APJ अब्दुल कलाम का इतिहास व जीवन परिचय और Meesho App क्या है और इस से पैसे कैसे कमाए? सम्पूर्ण जानकारी ! के बारे में अच्छे से और सम्पूर्ण जानकारी प्रदान कर चुके हैं।

जीवन परिचय बिंदुजीवन परिचय
नाम (Name)स्वामी विवेकानंद
वास्तविक नाम (Real Name)नरेन्द्र दास दत्त
पिता का नाम (Father Name)विश्वनाथ दत्त
माता का नाम (Mother Name)भुवनेश्वरी देवी
जन्म दिनांक (Birth Date)12 जनवरी 1863
जन्म स्थान (Birth Place)कलकत्ता
गुरु का नाम (Guru/Teacher)रामकृष्ण परमहंस
प्रसिद्दी कारण (Known For)संयुक्त राज्य अमेरिका, इंग्लैंड और यूरोप में हिंदू दर्शन के सिद्धांतों का प्रसार
पेशा (Profession)आध्यात्मिक गुरु
मृत्यु दिनांक (Death)4 जुलाई 1902
मृत्यु स्थान (Death Place)बेलूर मठ, बंगाल

स्वामी विवेकानंद ने संयुक्त राज्य अमेरिका और यूरोप में हिंदू आध्यात्मिक ज्ञान का प्रचार किया। उनका जन्म कलकत्ता के एक हाई-प्रोफाइल परिवार में हुआ था। उनका असली नाम नरेंद्र नाथ दत्त था।

छोटी उम्र में ही वे गुरु रामकृष्ण परमहंस के संपर्क में आ गए और सनातन धर्म के प्रति उनका झुकाव बढ़ने लगा।

गुरु रामकृष्ण परमहंस से मिलने से पहले वे एक सामान्य इंसान की तरह अपना सामान्य जीवन व्यतीत कर रहे थे। गुरुजी ने उनके भीतर ज्ञान का प्रकाश जलाने का काम किया। 

उन्हें 1893 में शिकागो में आयोजित धर्मों की विश्व महासभा में अपने भाषण के लिए जाना जाता है। उन्होंने अपने भाषण की शुरुआत “मेरे अमेरिकी भाइयों और बहनों” कहकर की थी, स्वामी विवेकानंद की अमेरिका यात्रा से पहले, भारत को दासो का स्थान माना जाता था और अज्ञानी लोग। स्वामी जी ने दुनिया को भारत के आध्यात्मिक रूप से समृद्ध वेदांत का दर्शन कराया।

यह भी पढ़ें-

Instagram से पैसे कैसे कमाए ? सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में !

WazirX क्या है और P2P Crypto Exchange कैसे काम करता है?

What is Meesho and How To Earn Money From Meesho App?

स्वामी विवेकानंद का जन्म और परिवार (Birth and Family of Swami Vivekananda)

स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी, 1863 को कलकत्ता के गौरमोहन मुखर्जी स्ट्रीट में हुआ था। स्वामी जी के बचपन का नाम नरेंद्र दास दत्त था। वह कलकत्ता के एक हाई-प्रोफाइल कुलीन परिवार से थे। उनके पिता विश्वनाथ दत्त एक प्रसिद्ध और सफल वकील थे। 

उन्होंने कलकत्ता में उच्च न्यायालय में अटॉर्नी-एट-लॉ का पद संभाला। माता भुवनेश्वरी देवी बुद्धिमान और धार्मिक प्रवृत्ति की थीं। जिससे उन्हें अपनी मां से हिंदू धर्म और सनातन संस्कृति को करीब से समझने का मौका मिला।

स्वामी विवेकानंद का बचपन (The Childhood of Swami Vivekananda)

स्वामीजी एक आर्थिक रूप से संपन्न परिवार में पले-बढ़े। उनके पिता पश्चिमी संस्कृति में विश्वास करते थे, इसलिए वे उन्हें अंग्रेजी भाषा और शिक्षा का ज्ञान देना चाहते थे। 

उनका कभी भी अंग्रेजी पढ़ाने का मन नहीं हुआ। बहुमुखी प्रतिभा के धनी होने के बावजूद उनका शैक्षिक प्रदर्शन औसत रहा। उन्होंने यूनिवर्सिटी एंट्रेंस लेवल पर 47 फीसदी, एफए में 46 फीसदी और बीए में 56 फीसदी अंक हासिल किए.

माता भुवनेश्वरी देवी एक धार्मिक महिला थीं जो नरेंद्रनाथ (स्वामीजी के बचपन का नाम) के बचपन में रामायण और महाभारत की कहानियां सुनाती थीं। जिसके बाद उनकी आध्यात्मिकता क्षेत्र में बढ़ती चली गई। 

कथा सुनते-सुनते उनका मन आनंद से भर गया। रामायण सुनते-सुनते नरेंद्र की सीधी-साधी संतान भक्ति से भर उठी। वे प्राय: अपने ही घर में तपस्वी हो जाते थे। एक बार वे अपने ही घर में ध्यान में इतने मग्न हो गए कि घरवालों ने उन्हें जोर से हिलाया, फिर कहीं जाकर उनका ध्यान भंग किया।

यह भी पढ़ें- Meesho App क्या है और इस से पैसे कैसे कमाए? सम्पूर्ण जानकारी !

यह भी पढ़ें- CashKaro क्या है? और इससे पैसे कैसे कमाए?

स्वामी विवेकानंद का सफ़र (The Journey of Swami Vivekananda)

स्वामी विवेकानंद जी का जीवन परिचय (Biography of Swami Vivekananda in Hindi)
स्वामी विवेकानंद जी का जीवन परिचय

25 साल की उम्र में उन्होंने अपना घर और परिवार छोड़कर संन्यासी बनने का फैसला किया। अपने छात्र जीवन में, वह ब्रह्म समाज के नेता महर्षि देवेंद्र नाथ ठाकुर के संपर्क में आए। स्वामीजी की जिज्ञासा शांत करने के लिए उन्होंने नरेंद्र को रामकृष्ण परमहंस के पास जाने की सलाह दी।

स्वामी रामकृष्ण परमहंस जी दक्षिणेश्वर के काली मंदिर के पुजारी थे। परमहंस जी की कृपा से स्वामी जी को ज्ञान की प्राप्ति हुई और वे परमहंस जी के प्रमुख शिष्य बन गए।

1885 में, रामकृष्ण परमहंस की कैंसर से मृत्यु हो गई। उसके बाद स्वामीजी ने रामकृष्ण संघ की स्थापना की, जिसे बाद में रामकृष्ण मठ और रामकृष्ण मिशन के नाम से जाना जाने लगा।

शिकागो में विश्व धर्म सम्मेलन (World Conference of the Religions in Chicago)

11 सितंबर, 1893 को शिकागो में धर्मों का विश्व सम्मेलन होना था। उस सम्मेलन में स्वामी जी भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे थे।

जैसे ही स्वामी जी ने धर्म सम्मेलन में अपनी शक्तिशाली आवाज के साथ अपना भाषण शुरू किया और कहा “मेरे अमेरिकी भाइयों और बहनों”, 5 मिनट के लिए सभागार तालियों की गड़गड़ाहट के साथ गूंज उठा। 

इसके बाद स्वामी जी ने अपने भाषण में भारतीय सनातन वैदिक संस्कृति पर अपने विचार प्रस्तुत किए। इससे न केवल अमेरिका बल्कि विश्व में स्वामीजी का सम्मान बढ़ा।

यह भी पढ़ें- CashKaro क्या है? और इससे पैसे कैसे कमाए?

स्वामी जी द्वारा दिए गए मौखिक इतिहास के पन्नों में वे आज भी अमर हैं। धर्म संसद के बाद स्वामी जी ने तीन साल तक अमेरिका और ब्रिटेन में वेदांत की शिक्षाओं का प्रचार किया। 15 अगस्त 1897 को स्वामीजी श्रीलंका पहुंचे, जहां उनका जोरदार स्वागत हुआ।

स्वामी विवेकानंद के प्रेरक प्रसंग (Inspiring story of Swami Vivekananda)

जब स्वामीजी की ख्याति पूरी दुनिया में फैल गई थी। तभी एक विदेशी महिला उनसे प्रभावित होकर उनसे मिलने आई। महिला ने स्वामी जी से कहा- “मैं तुमसे शादी करना चाहती हूं।”

स्वामी जी ने कहा- हे देवी, मैं एक ब्रह्मचारी हूं, मैं आपसे कैसे विवाह कर सकता हूं?

वह एक विदेशी महिला स्वामी जी से शादी करना चाहती थी ताकि उसे स्वामी जी जैसा बेटा मिल सके और वह बड़ा होकर दुनिया में अपना ज्ञान फैला सके और अपना नाम बना सके।

उसने स्त्री को नमस्कार किया और कहा, “माँ, आज से तुम मेरी माँ हो।” तुम्हें भी मेरे जैसा पुत्र मिला है और मेरा ब्रह्मचर्य चलेगा। यह सुनकर वह स्त्री स्वामीजी के चरणों में गिर पड़ी।

स्वामी विवेकानंद की मृत्यु  (Death of Swami Vivekananda )

4 जुलाई 1902 को स्वामी जी ने बेलूर मठ में पूजा-अर्चना की और योग भी किया।

उसके बाद वहां के छात्रों को योग, वेद और संस्कृत विषय पढ़ाया गया। शाम को स्वामी जी अपने कमरे में योग करने गए और अपने शिष्यों को शांति भंग करने से मना किया और योग करते हुए उनकी मृत्यु हो गई।

यह भी पढ़ें- Free Digital marketing course by Google कैसे ले?

यह भी पढ़ें- होली क्यों मनाई जाती है, होली कब है 2021- होली पर निबंध

39 वर्ष की आयु में स्वामी जी जैसे प्रेरणा के देवता का मेल हो गया। स्वामी के जन्मदिन को पूरे भारत में “युवा दिवस (National Youth Day) के रूप में मनाया जाता है।

स्वामी विवेकानंद जी के अनमोल विचार हिंदी में (The Precious thoughts of Swami Vivekananda in Hindi)

1- “अपने जीवन में जोखिम उठाएं, यदि आप जीतते हैं, तो आप नेतृत्व कर सकते हैं! यदि आप हार जाते हैं, तो आप मार्गदर्शन कर सकते हैं!”

2- “शक्ति ही जीवन है; कमजोरी मौत है।”

3- “अनुभव ही हमारे पास एकमात्र शिक्षक है। हम जीवन भर बात और तर्क कर सकते हैं, लेकिन हम सत्य के एक शब्द को नहीं समझेंगे।”

4- “अगर आप खुद को मजबूत समझते हैं, तो आप मजबूत होंगे।”

5- “एक विचार लें, उस एक विचार को अपना जीवन बनाएं। इसके बारे में सोचें, इसके सपने देखें, उस विचार पर जिएं, मस्तिष्क, मांसपेशियों, नसों, आपके शरीर के हर हिस्से को उस विचार से भरा होने दें, और हर दूसरे विचार को अकेला छोड़ दें। यही सफलता का मार्ग है।”

6- “खड़े हो जाओ, निर्भीक बनो, और दोष अपने कंधों पर लो। दूसरों पर कीचड़ उछालना मत; आप जिन सभी दोषों से पीड़ित हैं, उनके लिए आप एकमात्र और एकमात्र कारण हैं।”

7- “ध्यान मूर्खों को साधु बना सकता है लेकिन दुर्भाग्य से मूर्ख कभी ध्यान नहीं करते।”

8- “वह मनुष्य अमरत्व को प्राप्त हो गया है जो किसी भी भौतिक वस्तु से व्याकुल नहीं है।”

9- “आप जो कुछ भी विश्वास करते हैं, कि आप होंगे, यदि आप अपने आप को युगों का मानते हैं, तो आप कल होंगे।

आपको बाधित करने के लिए कुछ भी नहीं है।”

10- “आप भगवान पर तब तक विश्वास नहीं कर सकते जब तक आप खुद पर विश्वास नहीं करते।”

यह भी पढ़ें-  Dr. APJ अब्दुल कलाम का इतिहास व जीवन परिचय

इस ट्यूटोरियल में, हमने आपको “स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय हिंदी में (Biography of Swami Vivekananda in Hindi)” के बारे में पूरी जानकारी दी है। यह ट्यूटोरियल आपके लिए उपयोगी होगा। आपको यह जानकारी कैसी लगी कमेंट कर के जरूर बताइये और अपने सुझाव को हमारे साथ शेयर करें ।

यदि आपको यह Post पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Instagram, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये। इसी तरह की सही और संपूर्ण जानकारी के लिए आप हमारे Facebook Page को लाइक करें, लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कबीर दास जी का जीवन परिचय -Kabir Das Ji Ka Jivan Parichay

कबीर दास जी का जीवन परिचय - ( Kabir Das Ji Ka Jivan Parichay in Hindi) कबीर दास...

स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekanand) का जीवन परिचय – Biography

स्वामी विवेकानंद जीवनी (जीवनी), प्रेरक प्रसाद, अनमोल विचार हिंदी में (Swami Vivekananda's Biography and inspirational story in Hindi) स्वामी...

Dr. APJ अब्दुल कलाम का इतिहास व जीवन परिचय

Dr. APJ अब्दुल कलाम का इतिहास व जीवन परिचय (APJ Abdul kalam biography and history in hindi) जीवन परिचय...

CashKaro क्या है? और इससे पैसे कैसे कमाए?

CashKaro क्या है? इससे हम पैसे कमा सकते हैं? सम्पूर्ण जानकारी शॉपिंग करना किसे पसंद नहीं होता है,...

Recent Comments

Content Protection by DMCA.com
%d bloggers like this: